सीआरआर में बढ़ोतरी के बाद अब फिक्स्ड डिपॉजिट यानी एफडी पर ज्यादा रिटर्न मिलने का दौर शुरू

RP, देश , NewsAbhiAbhiUpdated 05-05-2022 IST
सीआरआर में बढ़ोतरी के बाद अब फिक्स्ड डिपॉजिट यानी एफडी पर ज्यादा रिटर्न मिलने का दौर शुरू

 नई द‍िल्‍ली. रेपो रेट और सीआरआर में बढ़ोतरी के बाद अब फिक्स्ड डिपॉजिट यानी एफडी (Fixed Deposit) पर ज्यादा रिटर्न मिलने का दौर शुरू हो गया है. बैंकों और फाइनेंस कंपनियों की ओर से धीरे-धीरे एफडी (FD) की ब्याज दरों में बढ़ोतरी की घोषणा की जाने लगी है. इसी कड़ी में अब प्राइवेट सेक्टर के बंधन बैंक और जना स्मॉल फाइनेंस बैंक ने एफडी की ब्याज दरें बढ़ा दी हैं.

इससे पहले निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक ने एफडी की ब्याज दरों में 25 बेसिस प्वाइंट्स की बढ़ोतरी की घोषणा की थी. रिजर्व बैंक ने बुधवार को रेपो रेट 40 बेसिस प्वाइंट बढ़ाकर 4.4 फीसदी और सीआरआर आधा फीसदी बढ़ाकर 4.5 फीसदी कर दिया था. सीआरआर बढ़ाए जाने से बैंकिंग सिस्टम से एक झटके में करीब 87,000 करोड़ रुपये निकल गए. इससे बैंकों के पास कर्ज देने लायक पूंजी कम हो गई. इसी वजह से बैंक अब एफडी पर ज्यादा ब्याज का ऑफर कर रहे हैं.

बंधन बैंक के एफडी रेट्स
बंधन बैंक ने 1 से 2 साल में मैच्योर होने वाली 2 करोड़ रुपये से कम की एफडी पर ब्याज दरों में आधा फीसदी यानी 50 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी कर दी है. बैंक की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, इस अवधि के लिए ब्याज दर 5.25 फीसदी से बढ़ कर 5.75 फीसदी हो गई है. ये बढ़ोतरी 1 साल से 18 महीने और 18 महीने से अधिक लेकिन 2 वर्ष से कम की जमाओं पर की गई है. नई दर 4 मई, 2022 से प्रभावी हो गई है. बंधन बैंक ने बाकी अवधियों की जमाओं पर ब्याज दरों को पूर्व स्तर पर रखा है. बैंक की ओर से अभी सामान्य नागरिकों को 2 साल से 5 साल तक की जमाओं पर सबसे ज्यादा 6.25 फीसदी ब्याज ऑफर किया जा रहा है. जबिक वरिष्ठ नागरिकों को सभी अवधियों के लिए 0.75 फीसदी अतिरिक्त ब्याज दिया जा रहा है.

जना स्मॉल फाइनेंस बैंक
जना स्मॉल फाइनेंस बैंक ने भी 2 करोड़ रुपये तक की जमाओं पर ब्याज दर में 25 फीसदी यानी 25 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी करने की घोषणा की है. नई दर 5 मई, 2022 से प्रभावी हो गई है. यह बढ़ोतरी 3 साल से 5 साल तक की मैच्योरिटी वाली एफडी के लिए की गई है. इस अवधि की जमा पर अब 6.75 फीसदी की बजाय 7 फीसदी ब्याज निवेशकों को मिलेगा. जना स्मॉल फाइनेंस बैंक ने बाकी अवधि की जमाओं पर ब्याज दर को स्थिर रखा है.
 
 

Recommended

Follow Us